श्रमिकों ने बंजर पहाड़ी पर बिखेर दी हरियाली और बना दिया पितृ पर्वत