शिक्षा मंत्रालय ने विकसित किया एक मॉड्यूल, गरीब बच्चों को मिलेगा फायदा