प्राचीन पहचान के तीन सौ पैंसठ मंदिर व कुओं वाला ये नगर बना खंडहर